इंफ़ोसेस के सी॰ई॰ओ॰ विशाल सिक्का का जातीय घमण्ड


अक्सर हम शहरी लोगों को भ्रम होता रहता है की इस देश में जाती पति की समस्या ख़त्म हो चुकी है । हमें लगता है यह जाती वैग्रह गाँवों क़स्बों की समस्या है । हमें लगता है कि कोरपोरेट कम्पनीज़ में जाती वैग्रह कोई समस्या नहि होती ।इसी वजह से बहुत से लोग आरक्षण पर भी सवाल उठाते है की इतने साल बाद क्या ज़रूरतहै …यह लोग यह नहि सोचते की आज़ादी के इतने सालोंबाद भी जातीय अहंकार क्यों नहि जाता ।

अब क्या हम सोच सकते है की इनफ़ोसिस जैसे कम्पनी के सीईओ विशाल सिक्का अपने क्षत्रिय होने पर गर्व करते है उन्हें लगता है की क्षत्रिय होने की वजह से वह यौद्धा है और किसी भी समस्या से लड़ सकते है ….
जब दुनिया की इतनी बड़ी कम्पनी के CEO के अंदर इतनी जातीय अनहकार भरा है तो देश के बाक़ी लोगों में जाती के नाम पर कितना घमंड होगा ।
ऐसे जाति वादी लोग जब इंटर्व्यू के सिलेक्शन लेंगे तो क्या जाती का ख़याल नहि रखेंगे । 

२०१४ में फ़ेमस टीवी रिपोर्टर राजदीप सरदेसाई ने भी ख़ुद के सारस्वत ब्राह्मण होने पर गर्व बताया था ।

आप सोचिए सरकारी लोगों को छोड़िए प्राइवट और इंटर्नैशनल लेवल पर काम करने वाले लोगों के मन में जब इतना जातीय घमंड भरा है तो आम लोगों के मन में कितना घमंड होगा जाती का ।
राजेश पासी ,मुंबई

https://www.google.co.in/amp/www.hindustantimes.com/editorials/infosys-sikka-s-kshtriya-warrior-comment-doesn-t-behove-a-ceo-of-a-modern-tech-firm/story-AJ9NcezAGhaNUVDQuiAv3H_amp.html

जनता की अदालत में एक अम्बेडकरवादी छात्र अमर सिंह पासवान को जनता पैसा देकर लड़ा रही है चुनाव

उत्तर प्रदेश की जनता न जाने कितने अपराधियो और माफियाओ को जीतकर विधानसभा में पहुँचाया है। शायद गिनती करना वाज़िब नहीं। लेकिन यंही जनता है अगर मन माफिक प्रत्यासी पा जाएं तो उसे पैसा भी देकर चुनाव लडाती है।
ऐसा ही एक ताज़ा उदाहरण गोरखपुर की चौरी चौरा विधानसभा के मतदाता की है । जंहा से अमरसिंह पासवान चुनावीं मैदान में है। नव युवक पासवान को जनता पैसा देकर चुनाव में लड़ा रही है। 

अमर सिंह ने छात्र राजनीति से अपना सफर शुरू किया है। अम्बेडकरवादी छात्र संघठन के बैनर तले इन्होंने छात्रहितो के लिए कई बड़े आंदोलन चलाये है। 

साथ ही साथ दलितों ,पिछडो ,अल्पसंख्यको के उपर हुए हमलों को लेकर सड़को पर लगातार विरोध प्रदर्शन करते रहे है । अपने संघर्षो की बदौलत गोरखपुर जिले में उन्होंने अपनी पहचान बनाई है। 

अपनी इसी पहचान को वे अब बहुजन मुक्ति पार्टी के टिकट पर विधान सभा तक पहुचना चाहते है । यह नवयुवक जनता की अदालत में न्याय की उम्मीद लिए खड़े है। ऐसे संघर्षशील नौजवान के लिए शुभ कामना है क़ि इस राजनैतिक पराभाव में भी जनता को विकल्प देने को मजबूती से खड़ा है। 

—अजय प्रकाश सरोज

कांग्रेस ने मोदी को बिरासत में क्या दिया ?

मोदी जी !आप उस देश के प्रधान मंत्री हो जो देश तीन सौ साल ग़ुलाम रहा !

जिस देश को अंग्रेजो ने लूट खसोट कर ओर जातीवाद में बाट के बर्बाद कर इस देश की बाग़डोर कोंग्रेस को सोपी थी !

194 7 में देश में सुई नही बनती थी !

सारा देश राजा रजवाड़ों के झगड़ो में बटा हुआ था

देश के मात्र पचास गाँवों में बिजली थी !

पूरे राजस्थान में मात्र बीस राजाओं के महल में फ़ोन था !

किसी गाँव में नल नही थे.

पूरे देश में मात्र दस बाँध थे ! सीमाओं पे मात्र कुछ सेनिक थे ! चार विमान थे बीस टेंक थे !

देश की सीमाएँ चारो तरफ़ से खुली थी !

खजाना ख़ाली था ऐसे बदहाल में हमारा हिंदुस्तान कोंग्रेस को मिला था !

इन साठ सालों में कोंग्रेस ने हिंदुस्तान में विश्व की सबसे बड़ी ताक़त वाली सेन्य शक्ति तैयार की

हज़ारों विमान -हज़ारो टेंक -लाखों फ़ैक्ट्रीया लाखों गाँवों में बिजली

हज़ारों बाँध लाखों किलोमीटर सड़कों का निर्माण परमाणु बम

हर हाथ में फ़ोन -हर घर में मोटर साई किल वाला मजबूत देश साठ में बना कर दिया हे कोंग्रेस ने !

भारत ने पिछले ६० सालों में तरक्की भी बहुत की है और भूतपूर्व प्रधानमंत्रियों ने कई इतिहास रच दिए हैं जिसकी वजह से भारत आज एशिया की दूसरी सब से बड़ी ताकत है.

1-भारत दुनिया का सर्व श्रेष्ठ संविधान बना चुका था.

2-भारत एशियाई खेलों की मेजबानी कर चुका था.

3- भारत में भाखड़ा और रिहंद जैसे बाँध बन चुके थे.

4- देश भामा न्यूक्लियर रिसर्च सेंटर का उद्घाटन कर चुका था.

5- देश में तारापुर परमाणु बिज़ली घर शुरू हो चुका था.

6- देश में कई दर्जन AIIMS, IIT, IIMS और सैकड़ों विश्वविद्यालय खुल km चुके थे.

7- नेहरु ने नवरत्न कम्पनियाँ स्थापित कर दी थी.

8- कईसालों पहले भारतीय सेना ने पाकिस्तानी सैनिकों को लाहौर के अंदर तक घुसकर मारा था और लाहौर पर कब्जा कर लिया था.

9- पंडित नेहरु पुर्तगाल से जीत कर गोवा को भारत में मिला चुके थे.

10- नेहरु जी ने ISRO (Indian Space Research Organization) की शुरुआत कर दी थी.

11- भारत में श्वेत क्रांति की शुरुआत हो चुकी थी.

12- देश में उद्योगों का जाल बिछ चुका था.

13- इंदिरा जी पाकिस्तान के दो टुकड़े कर चुकी थी, पाकिस्तान १ लाख सैनिकों और कमांडरो के साथ भारत को सरेंडर कर चुका था.

14- तब भारत में बैंकों का राष्ट्रीयकरण हो चूका था.

15- इंदिरा जी ने सिक्किम को देश में जोड़ लिया था.

16- देश अनाज के बारे में आत्म निर्भर हो गया था.

17- भारत हवाई जहाज और हेलीकाप्टर बनाने लगा था.

18- राजीव गाँधी ने देश के घर घर में टीवी पहुंचा दिया था.

19- देश में सुपर कम्प्यूटर, टेलीविजन और सुचना क्रांति ( Information Technology) पूरे भारत में स्थापित हो चुका था.

20- जब मोदी प्रधान मंत्री पद की शपथ ले रहे थे तब तक भारत सर्वाधिक विदेशी मुद्रा के कोष वाले प्रथम १० राष्ट्रों में शामिल हो चुका था

21- इनके अलावा.चन्द्र यान,

22- मंगल मिशन ,

23- GSLV,

24- मेट्रो,

25- मोनो रेल,

26- अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे,

27- न्यूक्लियर पनडुब्बी,

28- ढ़ेरों मिसाइल,पृथ्वी, अग्नि, नाग

29- दर्जनों परमाणु सयंत्र,

30- चेतक हेलीकाप्टर, मिग

31- तेजस, ड्रोन, अर्जुन टैंक, धनुष तोप,

32- मिसाइल युक्त विमान,

33- आई एन एस विक्रांत

विमान वाहक पोत. 34- 1950 तक केवल 25% साक्षरता थी 2014 मॆं 74% साक्षरता हो गई 

35-आजादी के समय देश की 75% फीसदी हिस्सा भुखमरी का शिकार था आज हम इसपर विजय पा चुके हैं .

ये सब उपलब्धियां देश ने मोदी के प्रधानमंत्री बनने के पहले हासिल कर ली थी.

इस पर अपने विचार शालीन शब्दों में नीचे कमेंट बॉक्स में लिखे और शेयर करे ताकि जुमले और अंधभक्तो की झुठी भक्ती सबको पता चल जाये……हरिओम सिंह

राजवंती देवी नर्सिंग होम- एक प्रयास राष्ट्रीय पासी समाज मुंबई द्वारा

पासी समाज !!!
पासी समाज में बहुत से लोगों ने बहुत पहले से अथक मेहनत और प्रयास जारी रखा उसी का परिणाम है कि आज हम काफ़ी बदलाव देख रहे है पासी समाज में ।
काफ़ी कुछ हो रहा है समाज में काफ़ी लोग समाज के नाम पर आगे आ रहे है ।

डॉक्टर की ज़रूरत सभी इंसानों को पड़ती है और अक्सर आज हम देखते है की सही सलाह न मिल पाने के कारण समाज के लोगों को भारी जान – माल का नुक़सान उठाना पड़ता है । इस दिशा में पहल की ज़रूरत काफ़ी दीनो से पड़ रही थी । अब जबकि हमारे समाज में भी डॉक्टर की संख्या बढ़ रही है तो आशा और भी बढ़ गई थी ।

……आपको बताते हुए बेहद गर्व का अनुभव हो रहा है साथियों की इस की शुरुआत हो चुकी है मुंबई से * राजवंती देवी नर्सिंग होम * से जहाँ पासी समाज के लोगों को मुफ़्त और लाभदायक कन्सल्टिंग सर्विस दी जाएगी । अब पासी समाज का भी अपना नर्सिंग होम है जो पासी समाज के लोगों को मुफ़्त कन्सल्टिंग सर्विस देगा ।
यह शुरुआत की है राष्ट्रीय पासी समाज , मुंबई के अध्यक्ष *डॉक्टर रमाशंकर भारती* साहेब द्वारा ( मुझे नहि लगता इनके बारे में पासी समाज के लोगों को परिचय देने की ज़रूरत है ) इस कार्य में विशेष सहयोग दिया है श्री सी पी सरोज साहेब द्वारा ( विडियोकॉन के उपाध्यक्ष , बाक़ी तो और उनका नाम ख़ुद ही अपने आप में एक परिचय है ) और साथ ही सहयोगी है मिस्टर अशोक कुमार जी , आईआरएस, कमिश्नर इंकम टैक्स , दिल्ली ।
भारती साहब ख़ुद भी डॉक्टर है , साहब के सुपुत्र डॉक्टर अमित जी भी डॉक्टर है । और आप जिस पेशे में है उस पेशे का समाज के उपयोग के लिए इससे अच्छा उपयोग और क्या हो सकता है ।

कहने की ज़रूरत नहि है की आज ऐसे डॉक्टरो की कमी नहि है जो आपको डरा कर हज़ारों के टेस्ट और अस्पताल में भर्ती कर लाखों तक बिल बना देते है जहाँ सिर्फ़ ख़र्च २-४ सौ का होता है । मलेरिया , डेंगू , टाईफ़ईड में साधारण इलाज की ज़रूरत होती है पर डॉक्टर भारती सर ने काफ़ी कुछ ऐसा देखा है जिसकी वजह से लोगों की ख़ून पसीने की कमाई बिना मतलब पानी की तरह बह जाती है सिर्फ़ एक डर की वजह से। डॉक्टर भारती साहेब ने बताया कि उनके क्लीनिक में बहुत से पेशंट जिनके प्लेटलेट १० हज़ार तक गिर चुके थे उन का इलाज सिर्फ़ २-४ हज़ार रुपयों तक सीमित कर दिया जबकि आपने अपने आसपास आपने ऐसे कई उदाहरण देखे होंगे जहाँ ५०-६० हज़ार के प्लेटलेट वालों को भी सीरीयस बता कर कई हज़ार तक बिल बनाते है । सिर्फ़ डर की वजह से । डॉक्टर साहब कहते है की वह , उनके पुत्र अमित जी और उनके अनुभवी सहयोगी डॉक्टर अपने समाज के लोगों को मुफ़्त सलाह और ज़रूरी सेवाये देंगे। अगर लोगों को समय पर सही सहयोग मिल जाएगा तो हमारे लोगों के लिए एक बड़ी हेल्प होगी लोग डर की वजह से पैसे बर्बाद करने से बच जाएँगे ।

यह शुरुआत भले ही मुंबई ( भायंदर ) में हुई है पर डॉक्टर भारती साहेब सपना देखते है की ऐसी शुरुआत देश के दूसरे शहरों में भी हो । भारती सर के संपर्क काफ़ी अच्छे है दूसरे शहरों के डॉक्टर और सामाजिक लोगों से जैसे दिल्ली और लखनऊ में यह शुरुआत हो सकती है जो की बहुत ज़रूरी है । अगर इन शहरों से जुड़े लोग और संस्थाएँ चाहे तो भारती सर इन ज़ग़हो पर शुरुआत करने के लिए सहयोग कर सकते है ।

इस नर्सिंग होम के अलावा डॉक्टर भारती साहेब द्वारा PRB नर्सिंग इन्स्टिटूट जो केंद्र से मान्यता प्राप्त है पिछले कई सालों से मुंबई में चल रहा है । इस इन्स्टिटूट में उन बच्चियों को जिनकी पढ़ाई आर्थिक स्थिति की वजह से पूरी नहि हो पाती और किसी सामाजिक कारणो के कारण उच्च शिक्षा नहि मिल पाती । ऐसे बच्चियों को यह इन्स्टिटूट नर्सिंग ट्रेनिंग देकर स्वावलंबि बनता है उन्हें दुनिया में ख़ुद के पैर पर खड़े होने के लायक बनता है , उन्मे वह आत्मविश्वास दिलाता है की वह भी बहुत कुछ कर सकती है । हमारे पासी समाज के लोग इस नर्सिंग होम की सेवाए लें सकते है जिसने सभी समाज के बहुत से बच्चों को अपने पैर पर खड़ा किया है जाहीर है पासी समाज के लोगों को ख़ास सुविधाएँ मिलेंगी इस इन्स्टिटूट से ।
तो साथियों इस मैसेज को इतना डिस्ट्रिब्यूट कीजिए की ज़रूरत मंद लोगों तक यह मैसेज पहुँचे और ऐसी सुविधाओं का लाभ ले सके ।
सम्पर्क – डॉक्टर रमाशंकर भारती , भायंदर , मुंबई 


मोबाइल – 093244 93939
धन्यवाद –
राजेश पासी ,मुंबई

श्री पासीसत्ता – प्रभारी मुंबई

उच्च शिक्षण संस्थानो में बहूजनो का घटता जनाधार !


डॉक्टर रमेश रावत 

एजुकेशन रिफार्म्स को लेकर एक विचार कई वर्ष पहले कांग्रेस सरकार में केन्द्रीय मंत्री रहे कपिल सिब्बल ने आई आई टी में अवसरों की संख्या सीमित कर दी थी तभी से आई आई टी में केवल दो अवसर हैं पहला १२वीं करते हुये दूसरा बारहवीं के बाद ,जब यह नियम लागू हुआ था तभी से ग्रामीण ,लोअर मिडिल क्लास के छात्रों का आई आई टी में सेलेक्शन नहीं हो रहा है।यूपी बोर्ड के छात्र लगभग आई आई टी से बाहर हो चुके हैं।पहले ऐसा नहीं था,पहले ग्रामीण इलाके के छात्र इंटर पास करने के बाद दो से तीन साल तैयारी करके आई आई टी में सेलेक्शन ले लेते थे।आगे जाकर वे उच्च पदों पर पहुंचते थे,अब वो सब खतम है।

इसका फायदा कोचिंग वालों ने उठाया उन्होने ९वीं क्लास से ही आई आई टी की तैयारी करवाना शुरू कर दिया।इसका फायदा प्राइवेट इंजीनियरिंग कालेजों के प्रबंधकों को भी मिला ।

उस समय कपिल सिब्बल पर यह आरोप भी लगा था कि उन्होने कुछ लोगों से मोटी रकम लेकर यह फैसला किया है।

अब मोदी सरकार ने एम बी बी एस /बी डी एस की पात्रता एक्जाम में तीन अवसरों का प्रतिबंध लगा दिया है।

यह एक तरह से ग्रामीण इलाके के छात्रों को डाक्टर बनने से रोकने का प्रयास है क्योंकि बेस कमजोर होने के कारण ग्रामीण इलाके के छात्र चौथे पांचवे प्रयास में ही सफल हो पाते थे।

यह सब सोची समझी साजिश का नतीजा है।इसका फायदा कोचिंग वाले व प्राइवेट मेडिकल कालेज वाले उठायेंगे।शायद यह फैसला इन्ही लोगों को फायदा पहुंचाने के लिये किया गया है।

ढाई साल हो गये मोदी सरकार को , एजूकेशन में कोई कारगर सुधार नहीं बस बातें हैं।

क्लास १ से ८ तक सभी स्कूलों में एकसमान सिलेबस नहीं है,सब अपने हिसाब से अभिभावकों को परेशान करते हैं।

– डॉक्टर रमेश रावत लखनऊ 

पासी समाज ट्रस्ट परसिया

लक्ष्मी प्रसाद रावत उद्घाटन करते हुए
मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा जिले की परासिया तहसील में पासी समाज ट्रस्ट ने 18वें वार्षिक सम्मेंलन के अवसर पर दो युवतियों की शादी बड़ी धूम धाम से कराया गया। जिसमे एक युवती इलाहाबाद की सोरांव तहसील की थी। इस दौरान 60 बच्चो को शिक्षा के क्षेत्र में बेहतर परिणाम देने के लिए सम्मानित भी किया गया।

ट्रस्ट के प्रबंधक पूर्व विधायक ताराचंद बावरिया ने कहा कि हम कार्यक्रम प्रत्येक वर्ष करते है। लेकिन समाज की युवतियों की शादी की समस्याओं को देखते हुए हमने यह निर्णय लिया कि हम दहेज़ रहित शादी भी करवाएंगे।
कार्यक्रम के मुख्य अतिथि राष्ट्रीय पासी महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष लक्ष्मी प्रसाद रावत जी वर वधू को आशीर्वाद देते हुए कहा कि हमारा समाज दिन ब् दिन तरक्की की राह पर है। ट्रस्ट द्वरा समाज को बेहतर दिशा दिया जा रहा है। मैं सभी अयोजक सदस्यों की भूरी भूरी प्रन्सशा करता हूँ। उन्होंने ट्रस्ट द्वारा निर्माण करवाये जा रहे सामूहिक भवन आर्थिक सहयोग के लिए लोगो से अपील की। 
विशिष्ट अतिथि श्रीपासी सत्ता पत्रिका के सम्पादक अजय प्रकाश सरोज ने कहा कि यह कार्यक्रम कई विविधताओ को धारण किये हुए इस तरह के आयोजन से समाज में मजबूती प्रादान करते है। शिक्षा के लिए 60 बच्चों को पुरस्कार देकर सम्मानित करना बड़ा काम है । इससे 60 बच्चे नहीं बल्कि समाज के 60 परिवार सम्मानित हुए है। मैं इस कार्यक्रम में भाग लेकर खुद को गौरान्वित महसूस कर रहा हूँ।

पासी महासभा इलाहाबाद के अध्यक्ष नीरज पासी ने इस विधिवत आयोजन के लिए पूर्व विद्यायक ताराचंद बावरिया की लगानता और शालीनता की तारीफ़ की । जबलपुर के महेंद्र पासी ने वर वधू को आशीर्वाद देकर उनके सफल जीवन की कामना किये।

सम्मेलन में पासी समाज की अद्भुद प्रर्दशनी का उदघाट्न किया गया । जिसमे पूर्व में तथा वर्तमान में प्रकाशित पत्र पत्रिकाएं और पुस्तके सामिल किये गए। 

कार्यक्रम का संचालन फ़िल्मकार केशव कैथवास ने किया । कार्यक्रम की अध्यक्षता शेर -ए -रतलाम भंवर लाल कैथवास जी ने किया। 

इस अवसर रंजन कैथवास, विधुति ज्योति कैथवास साहित बड़ी समाज के गणमान्य लोग उपस्थित होकर कार्यक्रम की शोभा बढ़ाये ।

नील गाय का आतंक

नील गाय खेतों में

झूँसी ,इलाहबाद / कड़ाके की ठंठी रात हो या फिर बरसात, झूँसी विधान सभा के किसानो की रात अपने फ़सल की रखवारी में ही बीतती है।
आज सुबह के पांच बजे मॉर्निंग वॉक पर बड़े भाई के साथ निकला तो कुहरे के सन्नाटे में चारपाई पर टार्च जलती हुई दिखाई पड़ी । जिज्ञाशा में पूछ बैठा क़ि दादा ये टार्च क्यों जलाये रखे हो ? रजाई के अंदर से कुछ धीमी आवाज़ आई ”ये भईया रतिया में जब थोड़ी छपकी लग जात है तो ई गइयन और नील गइया टार्चिया जलत देंख खेतन में आवय से डरय थीं ” 

तो क्या आप पूरी रात फ़सल की देंख भाल करती है बोली हाँ भइया नहीं त सब गोहूँ चर जाती है।अब आप जान ही गए होंगे कि यह आवाज़ दादा की नहीं दादी की थी। पूछने पर कि यह रखवारी कब तक करती है तो बताई कि जब तक पूरी फसल कट नहीं जाती है। 

भाई साहब ने बताया क़ि इस क्षेत्र के सभी किसान ऐसी ही अपने फसलो की सुरक्षा करते है। क्योंकि इधर गाय झुण्ड के झुण्ड में आती है सारी फ़सल खा जाती है। नील गायों के अलावा पालतू गायें भी रात भर किसानों के खेत में फ़सल खाकर सुबह अपने मालिकों के घर दूध देने पँहुच जाती है। शायद इनकी समझदारी के लिए इन्हें माता कहा जाता है। लेकिन नील गाय तो पालतू जानवर भी नहीं है । यह रेड़ी करने वाला जंगली जानवर है। फिर किसानों के हित में इन जानवरों की समाप्ति का अभियान क्यों नहीं ?
मुझे बड़ा आश्चर्य हुआ कि गाय -नील गाय किसानों के लिए इतनी बड़ी समस्या है। मंहगी हो चुकी खेती के किसानों की फसलों को इस तरह का नुकसान बेहद चिंता जनक है। 
लेकिन चुनावी मौशम में किसी भी पार्टियों के घोषणा पत्र में नहीं है। वैसे नितीश कुमार की पार्टी जदयू के पोस्टरों में नील गाय मुक्त किसान का स्लोगन देखने को मिला था। लेकिन जदयू ने उत्तर प्रदेश के चुना व न लड़ने का फैशला किया है । 

तो क्या किसानों की यह समस्या इसी तरह बनी रहेगी ? क्या यह ‘पूस की रात’ हल्कू जैसे किसानों को निग़लती रहेगीं , और सरकारें मौन होकर तमाशा देखती रहेंगी ? -अजय प्रकाश सरोज

अखिल भारतीय पासी समाज

पासी अखिल भारतीय पासी समाज,मुंबई ने जिस तरह से २६ जनवरी गणतंत्र दिवस का उत्सव मुंबई पासी परिवार के साथ मनाया अपने आप में अनोखा और अविस्मरणीय है ।मुंबई जैसे शहर में ७००-८०० पासी समाज के लोगों के साथ सामाजिक उत्सव मनाना कोई साधारण बात नहि है । शायद कई वर्षों के बाद मुंबई में ऐसा संयोग बना था । ६०० से ज़्यादाकुर्सियाँ पूरी पैक थी २०० से ज़्यादा लोग मैदान में चारों तरफ़ फैले थे । आप महिलाओं और बच्चों की संख्या देखिए अक्सर सामाजिक कार्यक्रमों में इनकी उपस्थिति कम होती है ,आप तस्वीरों में देख सकते है । यह फेंक तस्वीरें नहि है ।
कार्यक्रम की शुरुआत महाराज शिवाजी , महात्मा फुले , बाबा साहेब,वीरांगना उदा देवी और महाराजा बिजली पासी की तस्वीरों पर दीप प्रज्वलित करके की किया गया ।

मैदान बहुत भव्य और ख़ूबरती से सजाया गया था । मंच का संचालन मानननिय राम नारायण सरोज जी और युवा टीम नीतू सरोज , ज्योति सरोज और डॉक्टर अखिलेश सरोज ने नए तरीक़ों से बहुत प्रभावशाली ढंग से किया ।
कार्यक्रम को इस तरह से मैनेज किया गया था कि ५-६ घंटो को प्रोग्राम में कही भी बोरियत महसूस नहि हुई । लोग अंत तक कुर्सियों से उठ नहि पा रहे थे । मुख्य वक्ताओ के साथ बच्चों के सान्स्कृत प्रोग्राम ने सबका मोहित किया । देख कर आस्च्र्य लगा की अपने समाज के बच्चों में भी कितनी प्रतिभा छुपी हुई है । बसंत लाल जी के पासी समाज के ऊपर गायन ने ऐसा शमा बाँध था कि सारा मैदान झूमने लगा था । इसके अलावा अंधविश्वास पर रामदास जी और डॉक्टर अखिलेश द्वारा मंचित नाटक जो श्राद् जैसे अंधविश्वास के ऊपर था लोगों ने काफ़ी सराहा ।
मुख्य अतिथियों की लिस्ट इस तरह से डिज़ाइन की गई थी की महिलाओं , विधार्थियो और बच्चे पूरे कार्यक्रम में केंद्र में रहे इसलिए पद्मश्री कल्पना सरोज ( जैसा कि आप जानते है परिवार में एक हादसे की वजहसे वह उपस्थित नहि हो पाई थी ) C A प्रभावती सरोज , नीतू सरोज और समाज के आइकॉन ब्रिजेश सरोज का समावेश था साथ ही समाज में वैचारिक बदलाव का संदेश जाए इसलिए रमेश जी , रामसमूझ जी , राम प्रसाद जी ,रामनारायण जी और सुधीर सरोज जी का समावेश था ।
इस मैदान में एक कोने में वर वधू पहचान के लिए टेबल लगे हुए थे ।जहाँ लोग वर वधू की जानकारिया शेयर कर रहे थे और दूसरे कोने में फ़्री हेल्थ चेकअप का स्टाल लगा हुआ था । जहाँ लोग फ़्री ब्लड टेस्ट करा रहे थे जिसकी रिपोर्ट उनके घरों या मोबाइल में भेजी जाने वाली थी ।
मुख्य वक्ताओ में रामसमूझ जी ने समाज में वैचारिक बदलाव लाने का संदेश दिया मंदिरो में दिए जाने वाले दान के बारे में विचार करने को कहा की हमारा पैसा हम पर ही राज करने के लिए उपयोग किया जा रहा है । रामनारायण जी ने कहा मुंबई में अपने अधिकारों के लिए सड़कों पर उतरना पड़ेगा । ब्रिजेश सरोज ने पढ़ाई पर ध्यान देने के टिप्स शेयर किए । C A प्रभावती सरोज ने अपने अंदर की ताक़त को पहचानने के तरीक़े बताए उन्होंने कहा की अपने अंदर की ताक़त को खोजे और समाज को लीड करे ।
इस कार्यक्रम में श्री पासी सत्ता पत्रिका जो की इलाहाबाद से निकलती है और देश के कई राज्यों में इसकी पहुँच है । कई राज्यों में सभी संस्थाओ द्वारा पत्रिका का अधिकारिक उद्घाटन हुआ है । हालाँकि मुंबई और महाराष्ट्र में श्री पासी सत्ता पहुँच चुकी थी पर मुंबई में इसका अधिकारिक उद्घाटन नहि हुआ था । इसलिए २६ जनवरी २०१७ को श्री पासी सत्ता पत्रिका और कलेंडर का अधिकारिक उद्घाटन अखिल भारतीय पासी समाज , RCP टीम मेम्बर और मुख्य अतिथियों उधयोगपति रतनलाल सरोज , उद्योगपति जीतलाल सरोज , C A प्रभावती सरोज और ब्रिजेश सरोज के हाथो में किया गया ।श्री पासी सत्ता का कैलेंडर लोगों को इतना पसंद आया की पूरा स्टॉक सिर्फ़ ५ मिनट में ख़त्म हो गया लोग अंत तक कलेंडर के बारे में पूछ रहे थे ।
इतने विविधता भरे कार्यक्रम को इतने विस्तृत रूप से इतनी सफलता से आयोजन करने का श्रेय वहाँ के सदस्यों को जाता है ।
राजेश पासी ,मुंबई

श्री पासी सत्ता ( प्रभारी मुंबई )

RCP टीम (टीम मेम्बर )

अखिल भारतीय पासी समज ,मुंबई ( सदस्य)

राष्ट्रीय पासी समाज ,मुंबई ( सदस्य)

​ महाराजा बिजली पासी जयंती

हम हमेशा से कहते आए है सोशल मीडिया बहूजनो के लिए वरदान है । महाराजा बिजली पासी की जयंती इस बार पूरे देश में मनाई गई । ज़ाहिर है पिछली बार से ज़्यादा जगहों पर मनाई गई ।अगर ५ साल पहले देखे तो कितने लोग मनाते थे । अब घर में परिवार के साथ भी मनाया जाने लगा है । इसमें सोशल मीडिया के प्रचार के महत्वपूर्ण सहयोग है ।
यह जयंती मनाना शुरू हुई थी लखनऊ से । वहाँ के इतिहासकार , साहित्यकारों और सामाजिक कार्य करने वालों की मेहनत का नतीजा है । राजकुमार इतिहास कार , रामदयाल वर्मा , आर ए प्रसाद , रामकृपाल , राम लखन , आर के सरोज , जैसे बहुत से नाम है लखनऊ से जिन्होंने बहुत पहले शुरुआत की थी । ज़ाहिर है शुरुआत में बहुत कम सहयोग मिला होगा इन्हें पर इनहिनो हिम्मत नहि हारी ।
आर ए प्रसाद की अखिल भारतीय पासी समाज जो सबसे पुरानी संस्थाओ में से है कई वर्षों से मना रहे है , राम लखन साहब है काफ़ी पहले शुरू किए थे ।
पिछले कुछ सालों से अल्लाहाबद में पासी परिवार ( सुपर ५०) ने भी बड़े पैमाने पर यह मनाया जाता है । मित्र नरेंद्र और उनकी टीम के सहयोग से अल्लाहाबद की सड़कों पर महाराजा बिजली के बड़े बड़े होर्डिंग दिखाई देती है ।
बिहार में पहली बार पासी सेना द्वारा महाराजा बिजली पासी जयंती मनाई गई । जिसमें बड़े भाई सूजीत कुमार , मित्र वेद , मित्र निशान्त और मित्र अमित जी ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई ।
दिल्ली में मित्र हेमंत हमेशा से सेलेब्रेट करते है वह और उनकी पूरी टीम हमेशा ऐसे कार्यों में आगे रहते है ।
हमारे प्रतापगढ़ में लगातार दूसरी बार तेज़ तरार युवा वेदप्रकाश ने सफल आयोजन कर लोगों को जागरूक किया ।
आप तस्वीरों में देखिए देश के कई स्थानो की तस्वीरें है ।
आयोजन की भव्यता देखिए आज इसे मनाने के लिए हमारे समाज के सांसद औरकेंद्रीय मंत्री भी पूरा सहयोग देते है । माननीय सांसद कौशल कुमार साहेब , माननिय सांसद प्रियंका रावत जी और माननिय मंत्री कृष्णाराज जी का बहुत बहुत धन्यवाद ।
राजेश पासी ,
RCP टीम मुंबई